Navratri Puja : Navratri Puja 2021 | Shardiya Navratri Puja Muhurt

Navratri Puja भारत के त्यौहारों में प्रमुख माना जाता है अब तो नवरात्रि पूजा देश हीं नहीं बल्कि विश्व के कई देशों में धूम धाम से मनाई जाती है। नवरात्रि शब्द का संबंध संस्कृत से है नवरात्रि का अर्थ होता है “नौ रातें” इन नौ रातें और 10 दिन में माता रानी के नौ रूप की पूजा की जाती है और अंतिम दिन माता रानी को विदाई की जाती है।

Shardiya Navratri Puja का इतिहास

Shardiya Navratri Puja का इतिहास बहुत पुराना है जिसका वर्णन सही से कहीं भी प्राप्त नहीं है बेसिक चीज ये है कि लोग नवरात्रि में मां दुर्गा के नौ जो रूप हैं उनकी पूजा अर्चना करते हैं। पौराणिक कथाओं और शास्त्रों के अनुसार धरती पर जब क्रूरता ज्यादा बढ़ गई थी जिससे देवी देवता मनुष्य सभी परेशान थे तब जाकर मां दुर्गा के नौ दिन तक उन असुरों से युद्ध किया और दसवें दिन सभी असुरों का अंत हो गया तब से हीं नवरात्रि की शुरुआत हो गई।

Importance Of Navratri Puja नवरात्रि पूजा का महत्व

हिन्दू धर्म में नवरात्रि पूजा का महत्व बेहद हीं खास है पूरे 1 वर्ष में चार बार नवरात्र आते हैं लेकिन उनमें सबसे ज्यादा महत्व जिस नवरात्र की होती है वो अश्विन मास में मनाया जाता है। इस नवरात्रि में मां दुर्गा के नौ रूप जो हैं उन सभी मां के रूपों का पूजा अर्चना किया जाता है और सुख समृद्धि का वरदान मांगा जाता है।

Shardiya Navratri Puja 2021 Dates Navratri 2021 मूहूर्त

Shardiya Navratri Puja 2021 मात्र 8 दिनों में ही समाप्त हो जायेगा इस बार 07 अक्टूबर 2021 को शुरू हो रहा है और 15 अक्टूबर 2021 को समाप्त हो जायेगा। Covid 19 के वजह से सरकार ने सख्त दिशा निर्देश जारी कर दिए हैं जिसके वजह से पंडाल में थोड़ी रौनक कम रहेगी लेकिन जो आस्था लोगों के बीच है वो कम होने वाली नहीं है।

Navratri Puja 2021 मूहूर्त इस बार नवरात्रि 9 दिन के बजाय 8 दिन ही रहेगी एक प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य के अनुसार सर्वपृति अमावश्या जो की 6 अक्टूबर को समाप्त हो रही है इसलिए नवरात्रि 07 October को शुरू हो रही है। नवरात्रि के तृतिया 09 अक्टूबर को सुबह 07 बजकर 48 मिनट तक हीं रहेगी इसके बाद चतुर्थी शुरू हो जाएगी।

दिनांक माता की पूजा
07/10/2021 मां शैलपुत्री की पूजा
08/10/2021 मां ब्रह्मचारिणी की पूजा
09/10/2021 मां चंद्रघंटा व मां कुष्मांडा की पूजा
10/10/2021 मां स्कंदमाता की पूजा
11/10/2021 मां कात्यायनी की पूजा
12/10/2021 मां कालरात्रि की पूजा
13/10/2021 मां महागौरी की पूजा
14/10/2021 मां सिद्धिदात्री की पूजा
15/10/2021 विजयादशमी (दशहरा)
Chart

शारदीय नवरात्रि घटस्थापना के शुभ मुहूर्त (Sardiya Navratri Ghatsthapna ke subh muhurat (Navratri 2021)

नवरात्रि के प्रथम दिन घटस्थापना के साथ देवी मां का पूजन शुरू किया जाता है. घटस्थापना के लिए शुभ मुहूर्त का विशेष रूप से ध्यान रखना होता है 07 अक्टूबर को घटस्थापना का शुभ मुहूर्त सुबह 06 बजकर 17 मिनट से सुबह 7 बजकर 7 मिनट तक हीं है इसी समय घटस्थापना करने से नवरात्रि फलदायी होते हैं।

नवरात्र में देवी के नौ रूपों का संक्षिप्त परिचय (Happy Navratri)

नवरात्र में देवी के नौ रूपों का संक्षिप्त परिचय निम्न हैं

नवरात्र के पहले दिन: माता शैलपुत्री

Navratri Puja 2021
शैलपुत्री

नवरात्र के पहले दिन हिमालय की पुत्री माता शैलपुत्री का आगमन और उनकी पूजा अर्चना होती है।

नवरात्र के दूसरे दिन: माता ब्रह्मचारिणी

Navratri Puja 2021
ब्रह्मचारणी

नवरात्र के दूसरे दिन माता शैलपुत्री के स्थापना और पूजा के बाद माता के अविवाहित स्वरूप ब्रह्मचारिणी की पूजा होती है।

नवरात्र के तीसरे दिन: माता चंद्रघंटा

Navratri Puja 2021
चंद्रघंटा

नवरात्र के तीसरे दिन माता चंद्रघंटा की पूजा अर्चना किया जाता है, शिव विवाह के बाद मां पार्वती ने अपने सिर को अर्धचंद्र से सुशोभित की थीं जिसके कारण तीसरे दिन मां दुर्गा के इसी रूप की पूजा की जाती है।

नवरात्र के चौथे दिन: माता कुष्मांडा

Navratri Puja 2021 chandrgahnta
चंद्रघंटा

नवरात्रि के तीन दिन तक मां दुर्गा के स्वरूपों के पूजा के बाद नवरात्र के चौथे दिन माता कुष्मांडा जिन्हें ब्रह्मांड की रचनात्मक शक्ति का अवतार माना जाता है उनकी पूजा की जाती है।

नवरात्र के पांचवें दिन: माता स्कंदमाता

Sachchi Kahani Happy Navratri
स्कंदमाता

नवरात्र के पांचवें दिन स्कंदमाता की पूजा की जाती है जिसका अर्थ होता है “कार्तिक स्वामी की माता” जिसे कार्तिकेय भी कहा जाता है इस दिन मां सरस्वती की भी पूजा की जाती है।

नवरात्र के छठे दिन: माता कात्यायनी

Sachchi Kahani Happy Navratri
कात्यायनी

नवरात्र के छठे दिन माता कात्यायनी की पूजा अर्चना की जाती है जिसका अर्थ होता है “कात्यायन आश्रम में जन्मि”। इन्हें एक योद्धा देवी के रूप में भी जाना जाता है।

नवरात्र के सातवें दिन: माता कालरात्रि

Navratri Puja 2021
कालरात्रि

नवरात्रि के सातवें दिन माता कालरात्रि की पूजा अर्चना की जाती है जिसका अर्थ होता है “काल की नाश करने वाली” इस दिन माता की सबसे क्रूर रूप की पूजा की जाती है।

नवरात्र के आठवें दिन: माता महागौरी

Shadatri Navratri Puja 2021
महागौरी

नवरात्रि के आठवें दिन माता महागौरी की पूजा अर्चना होती है जिसका अर्थ होता है “सफेद रंग वाली मां” जिन्हें शांति और समृद्धि का प्रतीक भी माना जाता है।

नवरात्र के नवें दिन: माता सिद्धिदात्री

Navratri durga puaj
सिद्धिदात्री

नवरात्र के नवें और अंतिम दिन माता सिद्धिदात्री की पूजा अर्चना और आशीर्वाद प्राप्त किया जाता है जिसका अर्थ होता है “सर्व सिद्धि देने वाली” माता के इस रूप के मंदिर सहारनपुर में है जिसे माता शाकम्भरी देवी की मंदिर कहा जाता है।

नवरात्र के दसवें दिन जिसे हम सब दशमी कहते हैं उस दिन माता की विदाई की जाती है और उसी पूरे नौ दिन की पूजा दशमी को समाप्त हो जाती है।

इन्हें भी पढ़ें👇

  • अहिल्या बाई की संपूर्ण जीवन की कहानी.
  • गणेश चतुर्थी कैसे शुरु हुई पूरी कहानी पढ़े.

 ऐसे हीं सच्ची कहानी के लिए आप हमारे Web Page को लाल वाली घंटी बजा कर SUBSCRIBE कर लीजिए ताकि जब भी मैं कहानी आपके लिए लाऊं तो सबसे पहले आप पढ़ें और अगर पोस्ट अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों में जरूर शेयर करें। आप हमें किसी पोस्ट से संबंधित या कोई अन्य कहानी पढ़ने के लिए आप DM (Direct Massage) 👉 Facebook Instagram Twitter किसी पर भी कर सकते हैं।

President Of India Draupadi Murmu Devar Bhabhi Romance Story Indian Cricketer Hardik Pandya Bollywood Actress Hina Khan Letest Photo
%d bloggers like this: