Hindi Divas History | Vishwa Hindi History and Significance | 14 Septmber Hindi Divas Status

Hindi Divas History की बात करें तो हिंदी की इतिहास बहुत पुराना है लेकिन हिंदी भाषा को पहले सिर्फ भारत में हीं बोला जा रहा और जो लोग गैर हिंदी भाषी थे वो हिंदी को जानने वाले बोलने वाले लोगों से नफ़रत भी किया करते थे हिंदी भाषा के सम्पूर्ण इतिहास का वर्णन आज हम इस Blog Post में करेंगे।

Hindi Divas History (हिन्दी भाषा इतिहास)

Hindi Divas History
Hindi Divas

हिन्दी भाषा का इतिहास बहुत पुराना है लेकिन हिंदी भाषा को राजकीय भाषा बनाने और लागू करने का समय 1918 ई० में हुआ जब गांधी जी ने हिन्दी साहित्य सम्मेलन में हिन्दी को राजकीय भाषा बनाने के लिए कहा था गांधी जी ने हिन्दी को जनमानस की भाषा भी कहा है। गांधी जी के कहे जाने पर देश के आज़दी के बाद जब संविधान निर्माण किया जाने लगा तब देश की राजकीय भाषा के मुद्दे पर विचार विमर्श होने के अब 14 सितंबर 1949 को हिंदी को राष्ट्रभाषा भाषा घोषित कर दिया गया।

लेकिन भारत के कुछ वैसे राज्य जहां हिंदी नहीं बोली जाती वहां लोग हिंदी को राजकीय भाषा बनाने पर विरोध करें लगे तब अंग्रेजी को भी राजकीय भाषा में शामिल कर लिया गया जिसका उल्लेख संविधान के भाग 17 के 343(1) अनुच्छेद में वर्णित है। इसी दिन मूर्धन्य साहित्यकार व्यौहार राजेंद्र सिन्हा का 50 वां जन्मदिन भी था जिसके कारण 14 सितंबर को हिंदी भाषा को राजकीय भाषा की मान्यता मिली।

Hindi Divas Motto ( हिन्दी दिवस का उद्देश्य)

हिन्दी दिवस मानने का मुख्य उद्देश्य है की देश के वो हर व्यक्ति के जो हिंदी में रूची नहीं लेता या ले रहा है उसके मन में हिंदी की अलख जगाना है। 14 सितंबर के दिन देश के सभी संस्थानों में चाहे वो सरकारी कार्यालय हों, विद्यालय, कॉलेज, अस्पताल आदि जीतने भी जगह हैं वहां हिंदी में काम करना होता है। आए दिन देश के अधिकतर शिक्षण संस्थानों में हिंदी लुप्त सी होती जा रही है और अभिभावक लोग भी अपने बच्चों को अंग्रेजी मीडियम में हीं पढ़ना चाहते हैं जिससे ये दर सताने लगा है की कहीं आने वाले पीढी को हिंदी भाषा का ज्ञान हीं न हो हिन्दी दिवस का उद्देश्य यही है।

भारत सरकार भी संसद भवन में मंत्री और सांसदों से ये अपील कर चुकी है की जो भी संबोधन या सवाल जवाब करना हो ही उसे हिंदी में हीं करें यहां तक की सरकारी अस्पतालों के जो डॉक्टर की पर्ची होती है उस पर भी हिंदी में डॉक्टर के नाम और अस्पताल का नाम अंकित रहने लगा है।

मेरा भी आप सब से अनुरोध है की अपनी मातृभाषा से बढ़कर कोई भी भाषा नहीं है इसलिए हम सब का कर्तव्य है की इस अपनी मातृभाषा को विलुप्त न होने दें जितनी अपने बच्चों को अंग्रेजी की जरूरत है उससे ज्यादा हिंदी की सिखाने की आवश्यकता है।

Hindi Divas Status, Quotes, Slogan (हिन्दी दिवस स्लोगन) Vishwa Hindi History and Significance 

Hindi Divas History
Hindi Divas 1

Hindi Divas Status 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाता है जिसपर कुछ दो लाइन की कविता नीचे हम प्रस्तुत कर रहें हैं (Vishwa Hindi History and Significance)

हिन्दी भाषा सबसे ख़ास है,
क्योंकि इसमें एहसास है.

जब तक सूरज चाँद रहेगा,
हिंदी का दिल में सम्मान रहेगा.

हिन्दी मेरी आन हैं,
हिंदी में मेरे प्राण हैं.

हम सभी भाषाओँ का करते सम्मान हैं,
पर हिंदी का थोड़ा अधिक मान हैं.

हिंदी का बात तो निराली हैं,
हिंदी से ही दिल में हरियाली हैं.

हिंदी हर तरह के बंधन को तोड़ देता है,
प्यार से बोलो तो दिल को जोड़ देता है.

हिंदी में एक से एक लाल आते रहेंगे,
अपनी रचनाओं को अमर बनाते रहेंगे.

हिंदी की आत्मा को चोट पहुँचाते है,
जिस दिन हिंदी बोलने पर शर्माते है।

मातृभाषा हिंदी का गुणगान करेंगे,
जीवन भर हिंदी का सम्मान करेंगे।

हिंदी भाषा पर महापुरषों का विचार

हिंदी भाषा पर महापुरषों का विचार कुछ निम्न है जिसपर हम सब को अमल करनी चाहिए..

हिंदुस्तान के लिए देवनागरी लिपि का ही व्यवहार होना चाहिए, रोमन लिपि का व्यवहार यहाँ हो ही नहीं सकता। – महात्मा गाँधी

हिन्दी भाषा और हिन्दी साहित्य को सर्वांगसुंदर बनाना हमारा कर्त्तव्य है। – डॉ. राजेंद्रप्रसाद

हिंदी स्वयं अपनी ताकत से बढ़ेगी।– पं. जवाहरलाल नेहरू

हिंदी द्वारा सारे भारत को एक सूत्र में पिरोया जा सकता है। – स्वामी दयानंद सरस्वती

मैं दुनिया की सब भाषाओं की इज्जत करता हूँ, परन्तु मेरे देश में हिंदी की इज्जत न हो, यह मैं नहीं सह सकता। – विनोबा भावे

निज भाषा उन्नति अहै, सब उन्नति को मूल। – भारतेंदु हरिश्चंद्र

राष्ट्रभाषा के बिना आजादी बेकार है। – अवनींद्रकुमार विद्यालंकार

विदेशी भाषा का किसी स्वतंत्र राष्ट्र के राजकाज और शिक्षा की भाषा होना सांस्कृतिक दासता है। – वॉल्टर चेनिंग

है भव्य भारत ही हमारी मातृभूमि हरी भरी। हिन्दी हमारी राष्ट्रभाषा और लिपि है नागरी। – मैथिलीशरण गुप्त

Hindi Divas FAQ In Hindi 

World Hindi Divas कब मनाया जाता है ?

World Hindi Divas 10January को मनाया जाता है.

हिन्दी दिवास कब मनाया जाता है ?

हिन्दी दिवस 14 सितंबर को मनाया जाता है .

हिन्दी दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य क्या है ?

हिन्दी दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य देश के सभी लोगों को हिन्दी जानना और उसे अपने जीवन मे निरंतर उपयोग करना है।

हिन्दी भाषा को राजकीय भाषा कब घोषित किया गया ?

हिन्दी भाषा को राजकीय भाषा 14 सितंबर 1949 को घोषित किया गया।

हिन्दी भाषा के तहत कौन सा पुरस्कार दिया जाता है ?

हिन्दी भाषा के तहत दो पुरस्कार दिया जाता है पहला राजभाषा गौरव पुरस्कार जो भारतीय नागरिक और तकनीकी विज्ञान में ख्याति प्राप्त करने वाल लोगों को दिया जाता है और दूसरी राजभाषा कीर्ति पुरस्कार जो देश के किसी मण्डल, समिति, विभाग आदि में सर्वश्रेष्ठ कार्य करने वाले को दिया जाता है।

इन्हें भी पढ़ें–

ऐसे हीं सच्ची कहानी के लिए आप हमारे Web Page को लाल वाली घंटी बजा कर SUBSCRIBE कर लीजिए ताकि जब भी मैं कहानी आपके लिए लाऊं तो सबसे पहले आप पढ़ें और अगर पोस्ट अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों में जरूर शेयर करें। आप हमें किसी पोस्ट से संबंधित या कोई अन्य कहानी पढ़ने के लिए आप DM (Direct Massage) 👉 Facebook Instagram Pinterest Twitter किसी पर भी कर सकते हैं।

President Of India Draupadi Murmu Devar Bhabhi Romance Story Indian Cricketer Hardik Pandya Bollywood Actress Hina Khan Letest Photo
%d bloggers like this: