Good Friday Story In Hindi | 15 April Good Friday रोचक कहानी पढ़ें.

Good Friday Story In Hindi: आज 15 अप्रैल है और आज सम्पूर्ण विश्व में प्रभु यीशु में अस्था रखने वाले लोग Good Friday मना रहे हैं तो आइए जानते हैं गुड फ्राइडे से जुड़े कुछ रोचक तथ्य..

नमस्कार 🙏  मैं आप सबको अपने सच्ची कहानी इस पेज में आप सबका स्वागत करता हूं आप सब को अगर मेरे द्वारा प्रस्तुत की गई कहानी अच्छी लगी हो और उससे आप को कोई जानकारी प्राप्त हुई हो तो आप अपने दोस्तों में और Facebook पर शेयर करें। अगर आप चाहते हैं की कोई भी कहानी छूटे नहीं तो आप हमारे Web Page को नीचे दिए घंटी को दबाकर जरूर SUBSCRIBE करें.

नमस्कार 🙏  मैं आप सबको अपने सच्ची कहानी इस पेज में आप सबका स्वागत करता हूं आप सब को अगर मेरे द्वारा प्रस्तुत की गई कहानी अच्छी लगी हो और उससे आप को कोई जानकारी प्राप्त हुई हो तो आप अपने दोस्तों में और Facebook पर शेयर करें। अगर आप चाहते हैं की कोई भी कहानी छूटे नहीं तो आप हमारे Web Page को नीचे दिए घंटी को दबाकर जरूर SUBSCRIBE करें.

इन्हें भी पढ़े…  Mahatma Gandhi Death Story Hindi | 30 January 1948 को क्या हुआ था Gandhi ji और Godse के बीच पूरी कहानी पढ़ें

Good Friday Story In Hindi (गुड फ्राइडे की कहानी)

Good Friday Story In Hindi
Good Friday Story In Hindi

प्रभ यीशू जब मंदिर में थे तब गेथ्सेमाने गार्डन में उनके शिष्य यहूदा इस्करियोती की अगुवाई में गिरफ्तार किया गया। इन्हें गिरफ्तार कर अन्नास के घर लाया गया जो तत्कालीन उच्च पुरोहित काइयाफास का ससुर था। वहाँ उनसे पूछताछ की गयी किन्तु उसका कोई खास नतीजा नहीं निकला जिसके बाद उन्हें उच्च पुरोहित काइयाफस के पास भेज दिया गया।

कई गवाहों ने यीशू के खिलाफ विरोधाभासी बयान दिये जिसका यीशू ने कुछ भी जवाब नहीं दिया. अंत में उच्च पुरोहित ने यीशू को कहा कि अपने ईश्वर की कसम खा कर बताए की वह परमेश्वर का पुत्र हो. यीशू ने सकारात्मक उत्तर देते हुए कहा कि “तुमने कहा है और समय आने पर तुम देखोगे कि स्वर्ग के बादलों के बीच मनुष्य का पुत्र सर्वशक्तिमान की दाहिनी ओर बैठा है।” इस पर उच्च पुरोहित ने यीशू को ईश्वर की निंदा का दोषी ठहराया और सर्व सम्मति से यीशू के मामले में सैन्हेद्रिन की सुनवाई में यीशू को मौत की सज़ा सुनायी.

पीटर ने भी पूछताछ के दौरान यीशू को पहचानने से तीन बार इनकार किया। यीशू पहले से ही जानते थे कि पीटर उन्हें तीन बार पहचानने से इनकार करेगा. उनकी दोनों सुनवाइयों के सम्बंध में यीशू की सैन्हेद्रिन सुनवाई का लेख देखें, जिनमें से एक रात में हुई थी तथा दूसरी सुबह और इस तरह समय के अन्तर के कारण गुड फ्राइडे का दिन प्रभावित होता है।

सुबह पूरी परिषद यीशू को साथ लेकर रोमन राज्यपाल पोंटीयस पायलट के पास पहुंची. उन पर झूठा आरोप लगाये गये कि वह देशद्रोही हैं, उन्होंने सीज़र के करों का विरोध किया है और स्वयं को राजा घोषित किया है. पायलट ने यहूदी नेताओं को यह जिम्मेदारी दी कि वे यीशू को अपने कानून के अनुसार फांसी दें किन्तु यहूदी नेताओं ने कहा कि रोमन लोगों ने उन्हें प्राणदंड देने की अनुमति नहीं दी है.

Google News

इन्हें भी पढ़े… Baba Saheb Ambedkar Ki Kahani | Dr. Bhim Rao Ambedkar Struggal Story (1891-1956)

पायलट ने यीशू से पूछताछ की और सभा से कहा कि यीशू को सजा देने का कोई आधार नहीं है। यह जानकर कि यीशू गैलिली के निवासी हैं पायलट ने इस मामले को गैलिली के राजा हेरोड को सौंपा, जो यरूशलेम में पासोवर की दावत के लिए गये थे। हेरोड ने यीशू से सवाल किये पर उसे कोई जवाब नहीं मिला; हेरोड ने यीशू को पायलट के पास वापस भेज दिया. पायलट ने सभा से कहा कि न तो उसने और न ही हेरोड ने यीशू में कोई दोष पाया है; पायलट ने निश्चय किया की यीशू को कोड़े मारकर रिहा कर दिया जाये।

रोम में पासओभर के भोज के दौरान यह प्रथा थी कि यहूदियों के अनुरोध पर एक कैदी को रिहा कर दिया जाता था। पायलट ने लोगों से पूछा कि वे किसको रिहा करना चाहते हैं। मुख्य पुरोहित के निर्देश पर लोगों ने कहा कि वे बराब्बस को रिहा करना चाहते हैं, जो एक विद्रोह के दौरान हत्या के जुर्म जेल में बंद है। पायलट ने पूछा कि वे यीशू के साथ किस प्रकार का सलूक चाहेंगे और उन लोगों ने मांग की, ” उसे सूली पर लटका दो”.

पायलट ने यीशू को कोड़े मरवाए और भीड़ के सामने ला कर उसे रिहा कर दिया. मुख्य पुरोहित ने पायलट को एक नये आरोप की जानकारी दी कि यीशू स्वयं को “परमेश्वर का पुत्र होने का दावा” करता है इसलिए उसे मौत की सज़ा सुनायी जाये.इससे पायलट भयभीत हो जाता है और यीशू को वापस महल के अन्दर ले जाता है तथा उनसे जानना चाहता है कि वह कहां से आये हैं।

भीड़ के सामने आखिरी बार आकर, पायलट यीशू के निर्दोष होने की घोषणा की और यह दिखाने के लिए कि इस दंडविधान में उसकी कोई भूमिका नहीं है, पानी से अपने हाथ धोये. आखिरकार, पायलट ने दंगे से बचने के लिए यीशू को सूली पर चढ़ाने के लिए सौंप दिया. दंडादेश में लिखा था “नासरत का यीशू, यहूदियों का राजा.”सायरीन के साइमन की सहायता से यीशू अपनी सूली को स्वयं ढोते हुए बधस्थल तक ले गये, जहां उन्हें सूली पर चढ़ाया गया, उस स्थान को हिब्रू में कपाल का स्थान या “गोलगोथा” और लैटिन में कैलवरी कहते हैं। वहाँ उन्हें दो अपराधियों के साथ सूली पर चढ़ाया गया।

यीशू छह घंटे तक सूली पर यातना सहते रहे. सूली पर लटकाये रखे जाने के आखिरी तीन घंटों के दौरान दोपहर से अपराह्न 3 बजे तक पूरे देश में अंधेरा छाया रहा. एक जोरदार चीख के बाद यीशू ने अपने प्राण त्याग दिये.उसी समय एक भूकंप आया, कब्रें टूट कर खुल गयीं और इस मंदिर का पर्दा ऊपर से नीचे तक फट गया। सूली पर लटकाये जाने के स्थल पर उपस्थित एक रोमन सैनिक घोषणा की, “सचमुच यह भगवान का बेटा था !” 

इन्हें भी पढ़े…  Paan Singh Tomar Story In Hindi सिस्टम से हार चुके एक जाबाज़ सैनिक कि कहानी (EP-11)

सैन्हेद्रिन का एक सदस्य अरिमेठिया का जोसफ यीशू का एक गुप्त शिष्य था, जिसने यीशू को यह दंडादेश देने की सहमति नहीं दी थी, पायलट के पास गया और उसने यीशू का शव मांगा. यीशू के एक अन्य गुप्त अनुयायी और निकोदेमुस नाम के सैन्हेद्रिन के सदस्य ने एक सौ पौंड वजन का मसाले का मिश्रण लाया और मसीह के शरीर को कपड़े में लपेटने में सहायता की. पायलट ने सूबेदार से कहा कि वह इस बात की पुष्टि कर ले कि यीशू मर चुके हैं. एक सिपाही ने यीशू के शरीर पर भाले से वार किया जिसमें से खून और पानी बाहर निकला और उसके बाद सूबेदार ने पायलट से इस बात की पुष्टि कर दी कि यीशू मर चुके हैं.

अरिमेठिया के जोसफ ने यीशू के शरीर को एक साफ मखमल के कफन में लपेट कर सूली पर चढ़ाये जाने के पास स्थित एक बगीचे में एक चट्टान को खोद कर बनायी गयी उनकी नयी कब्र में दफना दिया. निकोदेमस भी 75 पाउंड का लोहबान और एक दस्तावर औषधि के साथ पहुंचा था और दफन करने के यहूदी नियमों के अनुसार उसने यीशू के कफन के साथ उन्हें रख दिया.

उन्होंने कब्र के प्रवेश द्वार पर एक विशाल पत्थर रखकर उसे बंद कर दिया.उसके बाद वे घर लौटे और विश्राम किया क्योंकि सूर्यास्त के बाद सब्बाथ शुरू हो गया. तीसरे दिन, रविवार को, जो अब ईस्टर रविवार (या पश्चा) के रूप में जाना जाता है, मृत यीशू जी उठे. इस दिन कबीर परमात्मा जी यीशु के रूप में कबर से बाहर आए थे, जिससे की लोगों का विश्वास परमात्मा में बना रहे।

x
x
क्यों लगाया जाता है Bhai Dooj पर तिलक Happy Diwali Wishing Status, Quotes, Stories Nora Fatehi अपने Boyfriend के साथ नजर आईं Priya Prakash Varrier का Hot अवतार
%d bloggers like this: