Deepawali Puja Essay | Lakshmi Puja Muhurt | Diwali Significance And History

Deepawali Puja Essay  हिन्दू धर्म में महत्तवपूर्ण पर्व में से एक है दीपावली पूजा में लोग अपने घरों को दिए और लाईट से सजाते हैं जब रात के अंधेरे में ये जब जगमग करती है तो मनमोहक दृश्य देखकर मन प्रफुलित हो उठता है आइए जानते हैं कि इस बार Diwali Puja 2022    Also Read.. Sarswati Puja Essay | Wish Status | Puja Muhurt 2022 | Puja Vidhi का शुभ मुहूर्त और समय सारणी क्या है…

नमस्कार 🙏  मैं आप सबको अपने सच्ची कहानी इस पेज में आप सबका स्वागत करता हूं आप सब को अगर मेरे द्वारा प्रस्तुत की गई कहानी अच्छी लगी हो और उससे आप को कोई जानकारी प्राप्त हुई हो तो आप अपने दोस्तों में और Facebook पर शेयर करें। अगर आप चाहते हैं की कोई भी कहानी छूटे नहीं तो आप हमारे Web Page को नीचे दिए घंटी को दबाकर जरूर SUBSCRIBE करें.

Deepawali Puja Essay: When Did It Start Diwali ? (दिवाली की शुरुआत कब हुई थी?)

भारत एक ऐसा देश है जहां सभी धर्मों के लोग रहते हैं और देश का वो हर पर्व चाहे जिस भी धर्म का हो सभी धर्म के लोग मानते हैं भले हीं उनका नाम और मानने का समय अलग है लेकिन मानते जरूर हैं। हिंदू धर्म में दीवाली कहा जाता है, मुस्लिम समुदाय के लोग भी दिवाली हीं कहते हैं, सिक्ख धर्म के मानने वाले लोग बंदी छोड़ दिवस के रूप में मनाते हैं और जैन धर्म के लोग इसे महावीर के मोक्ष दिवस के रूप में मनाते हैं।

ऐसा माना जाता है कि दिवाली की शुरुआत जब भगवान श्री राम चौदह वर्ष का वनवास काट कर और लंका पति रावण को परास्त कर जब अयोध्या लौटे थे तो उनके स्वागत में अयोध्या वासियों ने अपने घरों के बाहर दरवाजा पर घी के दिए जलाकर उनका स्वागत किया गया था। कार्तिक मास के अमावस्या की वो काली रात दीयों की रोशनी से जगमगा उठा. तब से हीं कार्तिक मास के अमावस्या के दिन लोग अपने घरों के सामने दिए जलाने लगे और इसी दिन को दिवाली कहा जाने लगा।

दीपावली शब्द की उत्पत्ति कैसे हुई और दीपावली का अर्थ क्या होता है ?

दीपावली शब्द की उत्पति संस्कृत के दो शब्दों से मिलकर बना है दीप+आवली दीप अर्थात् दिया और आवली अर्थात् क्रमबद्ध या श्रृंखला होता है।

Google News

When Is Diwali In 2022 (दिवाली  2022 में कब है ?)

Diwali Puja Shubh Muhurt: इसबार 2022 में दिवाली 24 अक्टूबर दिन सोमवार को मनाया जाएगा दिवाली शुभ मुहूर्त 2022 निचे दिए गए हैं जिन्हें आप देख सकते हैं

निशिता काल 24 अक्टूबर को 23:39 से 00:31 और सिंह लग्न -00:39 से 02:56 तक रहेगा।

लक्ष्मी पूजा मुहूर्त (Laksmi Pujan Muhurt 2022)

24 अक्टूबर 2022 को लक्ष्मी पूजन का शुभ मुहूर्त शाम 06:54:52 से लेकर रात 08:16:07 तक है जबकि प्रदोष काल 17:43:11 से 08:16:07 तक और वृषभ काल 18:54:52 से 20:50:43 तक रहेगा।

दिवाली शुभ चौघड़िया मुहूर्त (Diwali Puja 2022)

प्रातःकाल मुहूर्त्त (शुभ):06:34:53 से 07:57:17 तक, प्रातःकाल मुहूर्त्त (चल, लाभ, अमृत):10:42:06 से 14:49:20 तक, सायंकाल मुहूर्त्त (शुभ, अमृत, चल):16:11:45 से 20:49:31 तक, रात्रि मुहूर्त्त (लाभ):24:04:53 से 25:42:34 तक रहेगा।

Maa Lakshmi Puja Mantra (मां लक्ष्मी पूजन मंत्र) (Deepali Puaj Essay)

मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए नीचे दिए गए मंत्र का उच्चारण अवश्य करें…

ॐ श्रीं ल्कीं महालक्ष्मी महालक्ष्मी एह्येहि सर्व सौभाग्यं देहि मे स्वाहा।।
ॐ ह्रीं श्री क्रीं क्लीं श्री लक्ष्मी मम गृहे धन पूरये, धन पूरये, चिंताएं दूरये-दूरये स्वाहा:।
ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं श्री सिद्ध लक्ष्म्यै नम: 
पद्मानने पद्म पद्माक्ष्मी पद्म संभवे तन्मे भजसि पद्माक्षि येन सौख्यं लभाम्यहम्

When Is Dhanteras Puja 2022 (धनतेरस पूजा 2022 में कब है ?)

Dhanteras Puja 2022 भारत में 23 अक्टूबर 2022 दिन रविवार को मनाया जायेगा इस दिन धन की देवता श्री कुबेर बाबा की पूजा की जाती है। धनतेरस पूजा 2022 का शुभ मुहूर्त निम्न दिए गए हैं जिन्हें आप देख सकते हैं..

धनत्रयोदशी पूजा 2022 शुभ मुहूर्त शाम 05:25 से 06:00 बजे तक है तथा प्रदोष काल में शाम 05:39 से 08:14 तक और वृषभ काल में 06:51 से 08:47 तक रहेगा।

x
x
क्यों लगाया जाता है Bhai Dooj पर तिलक Happy Diwali Wishing Status, Quotes, Stories Nora Fatehi अपने Boyfriend के साथ नजर आईं Priya Prakash Varrier का Hot अवतार
%d bloggers like this: