बेटी अपमान नहीं वरदान है | पांच बहनों का RAS में चयन 2021

ये कहानी उन पांच बहनों की है बेटी अपमान नहीं वरदान है जिन्होंने आज पूरे देश में अपने और अपने पिता का नाम रोशन किया है।

नमस्कार 🙏  मैं आप सबको अपने सच्ची कहानी इस पेज में आप सबका स्वागत करता हूं आप सब को अगर मेरे द्वारा प्रस्तुत की गई कहानी अच्छी लगी हो और उससे आप को कोई जानकारी प्राप्त हुई हो तो आप अपने दोस्तों में और Facebook पर शेयर करें। अगर आप चाहते हैं की कोई भी कहानी छूटे नहीं तो आप हमारे Web Page को नीचे दिए घंटी को दबाकर जरूर SUBSCRIBE करें.

रहमत खुद उतरती है आसमानों से। यकीन नहीं, तो इस घर की बेटियों को हीं देख लो।।

बेटी अपमान नहीं वरदान है (sachchi kahahni)
Saharan Family

ये जो ऊपर जो लाइन लिखी गई है वो सटीक बैठती है इस घर की लक्ष्मी के उपर, राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले के रावतसर तहसील के भैरुसरी गांव के रहने वाले सहदेव सहारण के यहां जन्मे 6 बच्चे जिसमें 1 लड़का और 5 लड़कियां की है जिन्होंने कठिन परिस्थितियों के बाउजुद उन्होंने Rajsthan Civil Service Commission में अपना परचम लहराया है।

कक्षा 5 वीं के बाद स्कूल नहीं गई (बेटी अपमान नहीं वरदान है)

भारुसरी गांव में सरकारी या गैर सरकारी विद्यालय सिर्फ प्राथमिक हीं हैं गांव शहर से दूर है तो शहर जान सके क्योंकि पिता एक गरीब किसान थे उनके पास इतने पैसे नहीं थे की 6 बच्चों को शहर भेज कर पढ़ाई करा सकें तो उन्होंने अपने 5 बच्चियों को प्राथमिक तक ही विद्यालय भेज सके। फिर बच्चियों ने घर पर रहकर 10th, 12th, Graduation और Post Graduation तक की पढ़ाई की इसके बाद Civil Services की तैयारी खुद हीं घर पर शुरू कर दी।

पांच बहनों का RAS में जलवा (बेटी अपमान नहीं वरदान है)

बेटी अपमान नहीं वरदान है pic2
5 sisters

मेहनत करने वालों को कभी किस्मत धोखा नहीं देती चाहे वो कोई सा भी क्षेत्र हो जिस तरह में आप हो और उस क्षेत्र में आप बिना किसी संकोच के परिश्रम करते हैं तो आपको एक दिन सफलता जरूर मिलेगी। इसका जीता जागता उदाहरण RAS-2018 की परिणाम घोषित होने के बाद मिला।

RAS-2018 के परिणाम आने के बाद एक साथ एक हीं घर की तीन बहनों अंशु, ऋतु व सुमन ने क्रमश: 31, 96 व 98 रैंक लाकर घर ही नहीं बल्कि पूरे जिले का नाम रोशन किया है। अनचाही बेटी (Unwanted Daughter) की मार्मिक कहानी

वहीं दो बहनें मंजू और रोमा पहले से ही RAS के अधिकारी पदस्थापित हैं। RAS-2018 में सहदेव सहारण के एक दामाद का भी चयन हुआ है जो सीकर जिले के रहने वाले हैं।

Google News

दूसरे प्रयास में मिली सफलता (बेटी अपमान नहीं वरदान है)

बेटी अपमान नहीं वरदान है pic3
Suman,Ritu,Anshu

पांच बहनों में एक जो बड़ी बहन मंजु सहारण Co-Oprative बैंक नोहर में पोस्टेड हैं उनका सिलेक्शन RAS-2012 में हुआ था और दूसरी बहन रोमा सहारण झुंझुनूं जिले के सूरजगढ़ तहसील में BDO के पद पर कार्यरत हैं।

बाकी तीन बहनों का चयन RAS-2018 में दूसरे प्रयास में हुआ । इन्होंने इस सफलता का श्रेय अपने माता-पिता को दिया।

इसलिए मेरा मानना है की बेटियां बोझ नहीं हैं बल्कि बेटियां हैं तो हम सब हैं । उन्हें अच्छे संस्कार के साथ आगे बढ़ने में सहयोग करें।

बेटी,बहू कभी मां बनकर,सबके ही सुख-दुख को सहकर, अपने सब फर्ज निभाती है,तभी तो वो नारी कहलाती है।

ऐसे ही सच्ची घटना को कहानी के मध्याम से पढ़ने के लिए आप हमारे इस web page को लाल वाली घंटी बजाकर सब्सक्राइब कर सकते हैं जिससे आपको हमारे page पर अपलोड की गई कहानी का नोटिफिकेशन सबसे पहले आपको मिले। अगर ये कहानी आपको अच्छी लगी हो तो आप इस कहानी को अपने दोस्तों को टैग करते हुए Facebook Whatsapp पर शेयर कर सकते हैं.

🙏
धन्यवाद
x
x
इस हप्ते ये आने हैं वाले वेब सीरीज (Upcoming Web Series) दलित नेता बनेगा कांग्रेस का अध्यक्ष (Mallikarjun Kharge) Mirzapur वाले गुड्डू पंडित ने की शादी देखें तस्वीरें (Ali Weeds Richa) गन्दी बात अभिनेत्री Anvenshi Jain ने इंटरनेट पर मचाया कोहराम
%d bloggers like this: